alessays

Let's explore our knowledge!

Essay on Ganga river pollution in india

Essay on Ganga river pollution in india

गंगा नदी भारत में प्रमुख नदी है। इस नदी को भारतीय हिंदू संस्कृति में मां का दर्जा भी प्राप्त है। माना जाता है कि गंगा में स्नान करने से पापों का शुद्धिकरण हो जाता है, इसी कारण इसी नदी की घाटों के समीप नित्य पूजा भी की जाती है। इस प्रकार गंगा नदी का धार्मिक महत्व बहुत अधिक है। गंगा भारतीय जन मानस बल्कि स्वयं समूची भारतीयता की आस्था का जीवन्त प्रतीक है, मात्र एक नदी नहीं। हिमालय की गोद में पहाड़ी घाटियों से नीचे उतर कल्लोल करते हुए मैदानों की राहों पर प्रवाहित होने वाली गंगा पवित्र तो है ही, वह मोक्षदायिनी के रूप में भारतीय भावनाओं में समाई है। भारतीय सभ्यता-संस्कृति का विकास गंगा-यमुना जैसी पवित्र नदियों विशेषकर गंगा तट के आस-पास ही हुआ है। गंगा जल वर्षों तक बोतलों, डिब्बों आदि में बन्द रहने पर भी कभी खराब नहीं होता और न ही उसमें कोई कीड़े लगते हैं। वही भारतीयता की मातृवत् पूज्या गंगा आज प्रदूषित होकर गन्दे नाले जैसी बनती जा रही है, यह भी एक वैज्ञानिक परीक्षणगत एवं अनुभवसिद्ध तथ्य है।

पतित पावनी गंगा के जल के प्रदूषित होने के बुनियादी कारण क्या हैं, उन पर कई बार विचार एवं दृष्टिपात किया जा चुका है। एक कारण तो यह है कि भारत के प्राय: सभी प्रमुख नगर गंगा तट पर और उसके आस-पास बसे हुए हैं। उन नगरों में आबादी का दबाव बहुत बढ़ गया है। वहां से मल-मूत्र और गन्दे पानी की निकासी की कोई सुचारू व्यवस्था न होने के कारण इधर-उधर बनाए गए छोटे-बड़े सभी गन्दे नालों के माध्यम से बहकर वह गंगा नदी में आ मिलता है। परिणामस्वरूप कभी खराब न होने वाला गंगाजल भी बाकी वातावरण के समान आज बुरी तरह से प्रदूषित होकर रह गया है।

एक दूसरा प्रमुख कारण गंगा प्रदूषण का यह है कि औद्योगीकरण की बढ़ती प्रवृत्ति ने भी इसे बहुत प्रश्रय दिया है। हावड़ा, कोलकाता, बनारस, कानपुर आदि जाने कितने औद्योगिक नगर गंगा तट पर ही बसे हैं। यहां लगे छोटे-बड़े कारखानों से बहने वाला रासायनिक दृष्टि से प्रदूषित पानी, कचरा आदि भी गन्दे नालों तथा अन्य मार्गों से आकर गंगा में ही विसर्जित होता है। इस प्रकार के तत्वों ने जैसे बाकी वातावरण को प्रदूषित कर रखा है, वैसे गंगाजल को भी बुरी तरह प्रदूषित कर दिया है। वैज्ञानिकों का यह भी मानना है कि सदियों से आध्यात्मिक भावनाओं से अनुप्राणित होकर गंगा की धारा में मृतकों की अस्थियाँ एवं अवशिष्ट राख तो बहाई ही जा रही है इसके साथ ही अनेक लावारिस और बच्चों की लाशें भी बहा दी जाती है। बाढ़ आदि के समय मरे पशु भी धारा में आ मिलते हैं। इन सबने भी जल-प्रदूषण की स्थितियों पैदा कर दी है। गंगा के निकास स्थल और आस-पास से वनों-वृक्षों का निरन्तर कटाव, वनस्पतियों औषधीय तत्वों का विनाश भी प्रदूषण का एक बहुत बड़ा कारण है। इसमें सन्देह नहीं कि ऊपर जितने भी कारण बताए गए हैं, गंगा-जल को प्रदूषित करने में न्यूनाधिक उन सभी का हाथ अवश्य है।

विगत वर्षों में गंगाजल का प्रदूषण समाप्त करने के लिए एक योजना बनाई गई थी। कुछ दिनों उस पर कार्य होता भी रहा। फिर शायद धनाभाव के कारण उसे रामभरोसे बीच में छोड़ दिया गया। योजना के अन्तर्गत दो कार्य मुख्य रूप से किए गए या करने का प्रावधान किया गया। एक तो यह कि जो गन्दे नाले गंगा में आकर गिरते हैं, या तो उन का रुख मोड़ दिया जाए, या फिर उनमें जल-शोधन करने वाले संयंत्र लगाकर जल को शुद्ध साफ कर गंगा में गिरने दिया जाए। शोधन से प्राप्त मलबा बड़ी उपयोगी खाद का काम दे सकता है, यह एक स्वयं सिद्ध बात है। दूसरा यह कि कल-कारखानों से निकलने वाला विषैला प्रदूषित जल भी गंगा तक न पहुंचने दिया जाये। कारखानों में ऐसे संयत्र लगाए जायें जो उस जल का शोधन कर सकें या उस पानी को, कचरे को कहीं और भूमि के भीतर दफन कर दिया जाए। शायद ऐसा कुछ करने का एक सीमा तक प्रयास भी किया गया, पर काम आगे नहीं बढ़ सका, यह भी तथ्य है, जबकि गंगा के साथ जुड़ी भारतीयता का ध्यान रख उसे पूर्ण करना बहुत आवश्यक है।

वर्तमान केद्रीय सरकार ने गंगा की इस दुर्दशा पर चिंता व्यक्त की है और गंगा की सफाई के लिए नमामि गंगे नामक प्रोजेक्ट शुरू किया है। इसके तहत गंगा नदी में गिरने वाले नालों का पानी संयंत्रों द्वारा शोधित किया जाएगा। इसके बाद शोधित जल को ही गंगा में प्रवाह के लिए भेजा जाएगा। फिलहाल इस प्रोजेक्ट पर संतोषजनक तरीके से काम चल रहा है और इसके परिणाम भी धीरे धीरे सकारात्मक ही देखने को मिल रहे हैं। लेकिन गंगा की पूर्ण रूप से स्वच्छता से पहले इस बारे में कुछ भी कहना अभी जल्दबाजी ही होगी क्योंकि नगरों का कचरा, नालों का गंदा पानी, फैक्ट्रियों से निकलने वाला रसायन युक्त जहरीला पानी सबसे बड़ी समस्या बना हुआ है। कई जगह फैक्ट्रियां अस्थायी तौर पर बंद भी करवाई गईँ हैं। कई जगह नालों को मोड़ने का काम जारी है लेकिन बार बार ऋटि होने के कारण अक्सर देखा जाता है कि नालों का पानी अभी भी कुछ न कुछ मात्रा में गंगा में गिर रहा है। कई जगह तो नालें ओवरफ्लों होने के कारण गंगा में गिर रहे हैं। तो अभी इस दिशा में बहुत कुछ करना बाकि है। इस दिशा में सभी लोग अपनी तरफ से भी कुछ प्रयत्न करके गंगा की शुद्धि में हाथ बंटा सकते हैं। जैसे- आधुनिक और वैज्ञानिक दृष्टि अपनाकर अपने ही हित में गंगाजल में लाशें बहाना बन्द किया जा सकता है। धारा के निकास-स्थल के आसपास से वन-वृक्षों, वनस्पतियों आदि का कटाव कठोरता से प्रतिबन्धित कर कटे स्थान पर उनका पुनर्विकास कर पाना आज कोई कठिन बात नहीं रह गई है। अन्य उन कारक तत्वों को भी थोड़ा प्रयास कर के निराकरण किया जा सकता है, जो गंगा जल को प्रदूषित कर रहे हैं ऐसा करना वास्तव में भारतीयता और उसकी संस्कृति में आ मिले अपतत्वों से उसकी रक्षा करना है। वास्तव में गंगा जल की शुद्धता का अर्थ भारतीयता की समग्र शुद्धता है।

गंगा सिर्फ एक नदी नहीं है बल्कि जीवन दायिनी भी है जो प्रतिदिन करोड़ों लोगों की प्यास अपने जल से बुझाती है अगर इसे शुद्ध नहीं किया गया तो भारत में इसके समीप बसे नगरों के लोगों को जल के अभाव में भारी संकट का सामना भविष्य में करना पड़ सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *